सफलता की ललक

“तुम्हें बारिश कैसी लगती है?”सौम्या ने झमाझम बरसते हुए बूँदों की तरफ देखकर कमल से पूछा।
“ये बारिश मुझे बिल्कुल तुम जैसी लगती है”कमल ने बड़ी खूबसूरती से सौम्या के सवाल का जवाब दिया।
“कैसे” अब की बार सौम्या ने उत्सुकता से लबरेज़ होकर कमल से पूछा।
कमल,सौम्या की आँखों में आँखें डाल कर और सौम्या का हाथ अपने हाथों में लेकर बोला-” गौर से देखो,सौम्या। ये बारिश की झीनी-झीनी बूँदें को एक साथ देखो तो तुम्हारे घने ज़ुल्फ़ों का गुमान सा होता है। जब ये बारिश की बूँदें धरती के सीने से लिपटती हैं ,तो उसकी सारी पीड़ा,वेदना,व्यथा भाप बनकर कहीं उड़ जाती है और धरती को बेहद शुकून मिलता है। उन्हीं बूँदों की तरह जब तुम मेरे सीने से लग जाती हो तो मेरी सारी परेशानियाँ, उलझनें,घबराहट दूर हो जाती हैं और मुझे एहसास होता है कि मैं दुनिया की हर बेशकीमती चीज़ हासिल कर सकता हूँ। ये बारिश धरती के जिस्म को धो कर उसे बिल्कुल नवजात बच्चे की भाँति नवीन और नूतन कर देती हैं। तुम्हारे प्यार के साये में मुझे भी किसी माँ के आँचल की ठंडक मिलती है।”
कमल की बातों में पता नहीं क्या जादू था कि सौम्या उसके चेहरे में कहीं खो सी गयी थी।
“अरे,तुम कुछ सुन भी रही हो या फिर में इस बारिश से ही बातें किए जा रहा हूँ।” कमल ने सौम्या को झकझोरते हुए पूछा।
“कमल,चलो न हम भी बारिश में भींगते हैं। देखो ना, कितने सारे लोग बारिश का मज़ा ले रहे हैं। और उनको देखो ,ऐसा लग रहा है कि वो बारिश का आनंद ही नहीं ले रहे बल्कि उसको पी भी रहे हैं। ये लोग बारिश को जी रहे हैं।”सौम्या,कमल को बारिश में खींचते हुए बोली।
“सौम्या,ये बेवकूफी मैं नहीं करूँगा। मैं बीमार पड़ जाऊँगा। तुम्हें जाना है तो जाओ,में यहीं इंतज़ार करूँगा।”कमल,सौम्या से हाथ छुड़ाते हुए बोला।
पर सौम्या कहां कमल की सुनने वाली थी। सौम्या ने कमाल को धक्का देकर बारिश के बींचोंबीच लाकर खड़ा कर दिया। कमल किसी छोटे बच्चे की तरह बार बार भागता रहा पर सौम्या भी अपनी ज़िद्द पर थी। आखिरकार कमल बारिश में सौम्या के साथ घंटों भीगता रहा। कमल भीग तो रहा था पर सौम्या की खूबसूरती जो बारिश की पानी से और भी निखर गया था,उझको एक तक देखे जा रहा था।सौम्या पूरी मस्ती में उछाल-कूद,भाड़-दौड़ किए जा रही थी। कमल को सौम्या आज बेहद की खूबसूरत नजर आ रही थी। होंठों की लाली,आंखों का काजल,गालों को सुर्खी ,सब में एक गज़ब का तीखापन आ गया था। सौम्या अपने खुले बालों से जब बारिश को बूँदों को झटक रही थी तो मानो कमल के बदन में हज़ारों वॉट के झटके लग रहे हों।पहले सौम्या,कमल की बातों में खो गयी थी,अब कमल,सौम्या की खूबसूरती में खो चुका था।बारिश कब की बैंड हो चुकी थी। सौम्या पास के टी स्टॉल से कमल को लगातार आवाज़ दिए जा रही थी पर कमल आँखें मूंदें किसी और ही दुनिया में खो चुका था। जब मोटर को हॉर्न कमल के कानों में पड़ी और वो दजकके खाते-खाते बचा तो वो वापस अपने होश में आया।
“अरे,तुम यहाँ कब आई?”कमल ने अचम्भे में भर कर सौम्या से पूछा।
“वाह,में यहां दस मिनट से खड़ी हूँ। कितनी आवाज़ें दी तुमको,पर पता नहीं तुम कहाँ खोए थे।बताओ मुझे क्या सोच रहे थे।”सौम्या ने नटखट भाई अंदाज़ से कमल को छेड़ते हुए पूछा।
अब कमल क्या बताता कि वो सौम्या की खूबसूरती के भंवर में खोया था। जितना उबड़ने कि कोशिश कर रहा था,उतना ही डूबता जा रहा था।
“अरे ,कहीं नहीं। मुझे नहीं पता था कि बारिश में भींगने में इतना मज़ा आता है । अब तो हर बारिश में में भींगा करूँगा अगर तुम साथ हो “कमल ने अंतिम वाक्य बुदबुदाते हुए बोला।
“अच्छा,सौम्या। क्लॉस भी खत्म हो गई है। और काफ़ी मस्ती भी हो चुकी है। हमने बातों बातों में कई कप चाय भी पी ली है। अब वापस अपने-अपने घर चलते हैं।
सौम्य और कमल दिल्ली एक ही कोचिंग में सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करते थे। कमल इस साल सिविल सेवा परीक्षा का इंटरव्यू दे रहा था। हालाँकि दोनों और भी परीक्षाएँ साथ-साथ देते थे। सौम्या पारिवारिक और आर्थिक रूप से कमल से ज्यादा मजबूत थी। सौम्या और कमल एक ही शहर के थे लेकिन उनकी जाति में भी ज़मीन-आसमाँ का अंतर था जो समाज को विवाह के लिए स्वीकार नहीं था। सौम्या और कमल को यह बात बहुत अच्छी तरह से पता था। सो दोनों ने यही रास्ता निकाला कि अगर अच्छी नौकरी मिल जाएगी तो समाज,परिवार,दोस्त सब राज़ी हो जाएँगे।
सिविल सेवा परीक्षा के नतीजे आए। कमल मेरी लिस्ट में 14 अंकों से पीछे राह गया और उसे एक पल को लगा कि उसकी जिंदगी ही खत्म हो गई। तब सौम्या ने उसे हर तरह से सहारा दिया। साल भर को और कोई भी रिजल्ट नहीं आया।
अगले साल सौम्य और कमल दोनों की नौकरी सी ए जी में एस एस सी के द्वारा ऑडिटर के पद पर दिल्ली में ही लग गई। सौम्या अपनी नौकरी में पूरे दिल से लग गई। पर कमल को चैन नहीं मिल्स।
नौकरी अच्छी थी,तो थोड़ा विरोध के वावजूद दोनों की शादी भी हो गई। कमल शादी के बाद भी उस मेहनत और जोश से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करता रहा।कमल 3 सालों में 3 मेन्स और 2 इंटरव्यू दे चुका था पर मेरिट लिस्ट में नहीं आ पास रहा था। इस क्रम में कमल तमान इम्तहान पास कर चुका था ,लेकिन जो करना चाह रहा था,वही नहीं हो पा रहा था।

इसका प्रतिकूल असर कमल के ऑफिस के काम पर भी पड़ना शुरू हो चुका था। कमल दफ्तर के कामों से जी चुराने लगा था। कहीं न कहीं उसकी असफलता उस पर हावी होती जा रही थी। और इधर सौम्या अपने काम में परिपक्व होती जा रही थी । 3 सालों में सौम्या को 3 प्रोन्नत्ति मिल चुकी थी और कमल अब भी वही था।

दफ्तर का बोझ अब घर पर आने लगा था। कमल खुद को सौम्या का जूनियर मानने को तैयार नहीं हो पा रहा था। अपनी क्षमता और अपनी सफलता को याद कर के कमल के बार रो पड़ता था। सौम्या,कमल की स्तिथि भली-भाँति समझरी थी लेकिन ज्यादा कुछ बोल नहीं पाती थी। कहीं न कहीं कमल का पौरुष सौम्या पर हावी हो जाता था। पहले जो बातें प्यार से हो जाती थी ,अब उन्हीं बातों पर कमल चिल्लाने लगता था और सौम्या चुपचाप रोटी रहती क्योंको वो कमल को क्षमता को जानती थी। इसलिए उसे और भी बुरा लगता था।
दफ़्तए में अब ये हवा भी चली कि कमल कभी सौम्या के लायक था ही नहीं। सौम्या कहाँ ऊँचे जाट की और कमल किस जाट का है पता भी नहीं। आज कमल यहां तक भी पहुँचा है रो सिर्फ सौम्या की बदौलत।
अब यह रोज़ की बात हो चली थी। कमल अवसाद से घिरता जा रहा था। एक अदद बड़ी नौकरी के लिए उसकी जिंदगी तबाह होती जा रही थी और जो लड़की उसकी जान थी और आज बीवी आंखों की किरकिरी बन चुकी थी।
सौम्या से ये सब अब बर्दाश्त से बाहर हो चुका था। आज ऑफिस निकलने से पहले सौम्या ने कमाल से बात करने की कोशिश की।
“कमल,हम पूरी ज़िंदगी किसी एक चीज़ न मिलने के ग़म में इस तरह से नहीं जी सकते। तुमने मेहनत की है और आज भी कर रहे हो। समय से पहले और भाग्य से ज्यादा किसी को कुछ नहीं मिलता। अपनी ज़िंदगी में खुश और सकारात्मक रहना सीखो,सब मिल जाएगा।”
पहले यही सारी सौम्या की बातें कमल को उसकी तरफ खींचती थी लेकिन आज ये बातें उसे उपदेश और ताना लग रहा था। कमल ने आवेश में आकर बोला”सौम्या,तुमने जो छह,तुम्हें मिल गया । अतः तुम्हारे लिए ऐसा बोलना बहुत आसान है। तुम ऑफिस में मेरी बॉस हो,यहां बनने की कोशिश मत करो।”
“क्या कहा तुमने,मैन जो चाहा मुझे मिल गया। मैंने तुम्हें आई ए एस देखना चाहता था। और जितनी मेहनत तुमने की है,उतनी ही कुर्बानियाँ मैंने भी दी हैं। तुम्हारे हिसाब से जागना,सोना,खाना पीना,पहनना -ओढ़ना सब किया। में वो सौम्या रही ही नहीं जो तुम्हें मिली थी। में अब कगुड को भी नहीं पहचान पाती। तुम्हारी पहचान बनाने के लिए मैन अपनी ही पहचान मिटा दी। और तुम इस तरह मुझे ज़लील कर रहे हो।” सौम्या रोती हुई बोली।
“नहीं चाहिए मुझे तुम्हारी बनाई हुई पहचान। तुम रखो ये तमगा अपने पर्स। जिस दिन में अपनी पहचान बना लूँगा, वापस आ जाऊँगा” और यह कहता है कमल घर से चला गया।
सौम्या सूने घर को निहारती रही और सोचती रही कि उसकी गलती थी कहाँ-प्यार करने में,मदद करने में या किसी के लिए अपना वजूद खोने में ।

सलिल सरोज

         

Share: