आएंगे इस फ़ागुन में ….

 

         दृग जल नैनन से ,

        ठहरा अधरन पे ।

        व्यकुल नैनन से ,

       मचला चितवन में ।

       दग्ध हृदय आधीर शब्द,

       व्यथा बसी उस मन में ।

         बिरह व्याकुल वो ,

      रोक रही मन मन से ।

        सिंगर खड़ी द्वारे ,

        मिलने आतुर प्रियतम से ।

      आएंगे इस फ़ागुन में ,

        मिलने रंग अपने रंग से ।

       रच जाऊँ उसके रंग में ,

     भाव लिए सोचे चितवन में ।

      दृग जल नैनन से,

       ठहरा अधरन पे ।

      …. विवेक दुबे”निश्चल”@…

         

Share: