गिद्ध

गिद्ध
———
हैवान को
औरत सिर्फ
एक
मांस
का टुकड़ा
नज़र
आती है
वो
ताक में बैठा
रहता है’
कब मांस का
टुकड़ा
लपक कर
दूर उड़ जाए
और कही
सूनसान
में
उसे नोच नोच
कर
जी भर खाए।
हर एक दिन
नए गोस्त की
तलाश।
गोस्त की
भूख
किस कदर
एक हैवान को
गिद्ध बना
देती
है।
©अंशु कुमारी

         

Share: