माँ की महिमा

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
👌 ” माँ की महिमा” 👌
************

कहना चाहूँ कह न पाऊँ ,
लिखना चाहूँ लिख न पाऊँ,

ऐसा है माँ का गुणगान ,
जिस पर करते हम अभिमान।

खुदा भी जिसका रखता ध्यान,
वो है मेरी माँ महान ,

दिल में जिसके प्यार अपार ,
जिसकी महिमा है अपार ,

सबके दुःख को हरती है ,
खुद पीड़ा को सहती है ,

अपने पर आ जाये अगर ,
कहाँ किसी की सुनती है,

अबला से सबला बन जाती ,
जब बच्चो पर विपदा आती ,

नारी खुद में है महान ,
माँ बन कर करती कल्यान ।

” नीरज सिंह ”
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

         

Share: