सोरठा

ऐसे भी हैं लोग,
अपनी लगी न सेंकते।
दूजे का दुख देख,
रोते दो दो आँख भर।।

नाम-कृष्ण कान्त तिवारी “दरौनी”

         

Share: