ज्ञान दे माँ

         हे माँ ज्ञानदा ,हे माँ ज्ञानदा , 

        ज्ञान दे माँ , ज्ञान दे माँ ।

          हर  तिमिर अज्ञान माँ ।

              दे ज्ञान प्रभा वरदान माँ ।

        है ब्रम्हाणी सकल ब्रम्हांड माँ , 

           भर शब्द सकल भंडार माँ ।

      नित नव लेखनी श्रृंगार माँ । 

        दे वाणी का वरदान माँ ।

     हो  दूर तम अभिमान माँ । 

     पाऊँ दीप्ती स्वाभिमान माँ। ,

        ज्ञान दे माँ ,  हे ज्ञानदा माँ ।

        ….विवेक दुबे”निश्चल”@…

         

Share: