बेटियाँ

हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है बेटियाँ।
देश का नाम रोशन कर रही बेटियाँ।।
घर का सारा काम कर पढ़ती है ये।
परिवार के रिश्ते निभाती हैं बेटियाँ।।
कन्याओं को पूजा जाता घर घर।
फिर क्यों गर्भ में मार देते है बेटियाँ।।
दुख दर्द घुटन सब सहती है बेटियाँ।
पर कभी भी उफ तक न करती है ये।।
हर गम को सह हँस देती है बेटियाँ।
घर की किलकारी होती है बेटियाँ।।
सबकी राजदुलारी होती है बेटियाँ।
कह पुरोहित प्यारी होती है बेटियाँ।।
कवि राजेश पुरोहित
श्रीराम कॉलोनी
भवानीमंडी
जिला झालावाड़
राजस्थान

         

Share: