आॅखे बयाॅ कर रही हैं

“कागज दिल”पर ही,अलिख कर जता दें,
क्यूॅ तु ऐहसाॅसो मे खुट रही है।
————*———*———–
तेरी आॅखें बयाॅ कर रही हैं,
तुझकों मुझसें मौहब्बत हुई हैं।
तू भलें मुझसें नजरें चुरा लें,
तेरी धड़कन बयाॅ कर रही हैं ।।
लाॅख कोशिस तु करलें मगर सुन,
हाॅलें दिल तों बयाॅ हो ही जाता।
दिल की बातें जवानी की लहरें,
युॅ छुपानें सें छुपती नही हैं
“कागज दिल”पर ही,लिख कर जता दें,
क्यौ तु ऐहसाॅसो मे घुट रही है।……
*
वो मुझें देख कर मुस्कुराना,
और तेरा मुझसें नजरें चुराना।
बस यहीं हैं मौहब्बत की कलियाॅ,
जों खिलें बिन कहाॅ टूटती हैं।।
बन कें भॅवरा यें पागल जवाॅनी,
खिलाकर,कलियों कों ही मानती हैं।
तू भी नादाॅ नही प्रियतम प्यारी,
फिर इतनी नादाॅन क्यूॅ बन रही है।।
“कागज दिल”पर ही लिख कर जता दें,
क्यौ तु ऐहसाॅसो मे खुट रही है।…….

         

Share: