मेरे प्रिये

तुम बिन दिल अब कहीं न लागे,
धरूँ मैं कितना धीर प्रिये।

प्रीत की डोरी रेशम जैसी,
न समझो जंजीर प्रिये।

दर्द मिला जो प्रेम में मुझको,
मीठी है वो पीर प्रिये।

देता खट्टी मीठी यादें,
प्रीत की ये तासीर प्रिये।

खोकर पाना पाकर खोना,
बदले रंग तक़दीर प्रिये।

याद में तेरी नैना बरसे,
लोग समझते नीर प्रिये।

दिल में मेरे तू बसता है,
देख ले दिल ये चीर प्रिये।

लिख दे चल कोई प्रेम कहानी,
रांझे की बनूँ हीर प्रिये।
Shobha kiran.

         

Share: