कवियों के सरताज गोपाल दास नीरज

जो करते थे शब्दों से प्यार
वो कवियों के सरताज
रच कर इतिहास चले
छोड़ हमारा साथ चलें
सुनकर जिनके अल्फाज
बढ़ जाता मन में विश्वास
अपने शब्दों के जादू से
जो करते हर एक दिल पर राज
ऐसे कवि थे श्री गोपालदास
शांत छवि मधुर मुस्कान
सदा याद रखेगा यह जहां
जिनके गीत बढ़ाते धीरज
बहुत ही प्यारे कवि थे नीरज

         

Share: