बस्तो का बोझ

:- बोझ बस्तो का :-

बस्ते में बच्चो को उलझाओ न ,
पापा कुछ पल रूक जाओ न l
जीने की चाह मन में जगाने दो ,
देखा देखी तुम दौड़ लगाओ न ll
पापा मुझे खेल तो लेने दो ,
बचपन के पल जी तो लेने दो l
बस्तों का सब बोझ सह लूँगा ,
तोतली बोली बोल तो लेने दो ll
मेरे कंधे है कमजोर ,
करो न तुम बलजोर l
हड्डी मेरी टूट जाएगी ,
अनर्थ हो जायेगा घोर l
मां की गोदी में सो तो लेने दो ,
सपनो के बीज बो तो लेने दो l
बस्तो का सब बोझ सह लूँगा ,
थोड़ा और बड़ा हो तो लेने दो ll
बोलूंगा अंग्रेजी फर्राटेदार ,
बन जाऊंगा मै भी दमदार l
सीख कर के हर हुनर को ,
करूंगा मै अपना कारोबार l
कुछ पल मर्जी के जी तो लेने दो ,
मस्ती की पुरवाई पी तो लेने दो l
मै भी चलता रहूँगा मंजिल तक ,
दीये के लिए तुम घी तो लेने दो ll
………………….BP…………………..

         

Share: