माँ की कोशिश

तपन से जलता हुआ बदन देखा
एक माँ के माथे में शिकन देखा

सोच में मशगूल,ऐसा चमन देखा
बदहवास रहे,दिल में चुभन देखा

बोझ वो अपने दिलो में लिए हुए
घर से निकल कर यूँ वतन देखा

वो रोती, चिल्लाती जाती इधर उधर
लाल के खातिर बेचते उसे तन देखा

सब भर ना सोया था उसका लाल
माँ की ममता का दिल में सुमन देखाH

दौरे सियासत आपस में लोग भूले हुए
रोज़ मरते यहाँ बूढ़ी माँ का रतन देखा

हैरत नही यहाँ ये देख “आकिब”तुझको
थोड़े से लालच में बेचते ईमान देखा।।

-आकिब जावेद

         

Share: