विनम्र श्रद्धांजलि अटल बिहारी वाजपेयी

विनम्र श्रद्धांजलि 🙏🌼🌼

धरती कलपी अंबर रोया
विह्वल हर कंठ सुजान हुआ
हर नेत्र हुआ अश्रुपूरित
मुस्कानों का अवसान हुआ

सत्ता रोई कविता रोई
निष्ठुर कैसा भगवान हुआ
चिर निद्रा में जब गए अटल
अवसादित हिन्दुस्तान हुआ

यह कहा मृत्यु से तनिक ठहर
मैं आज नहीं कल जाऊँगा
अपने भारत का राष्ट्र पर्व
मैं अन्तिम बार मनाऊँगा

दृढ़ इच्छा से डर गई मृत्यु
विस्मित यह सकल जहान हुआ
जो अटल मृत्यु को टाल गया
ऐसा एक अटल महान हुआ

भरत दीप
16.08.18

         

Share: