सिर्फ पूजन????

सिर्फ पूजन????

कभी पितर पूजते
कभी महात्मा
मृत होती आत्मा
दिखता न परमात्मा
भूखा
वस्त्रहीन
बिलखता
सिसकता
सिर्फ पूजन
किसका
किसके लिए
कब तक
और
क्यों ऐसे????
??????

         

Share: