ड़ेंगू के मित्रो नमन

ड़ेंगू के मित्रो,,
ड़ेंगू पर सब तमकते, कुकृत्य सभी छिपाय ।
धुंआ पहले कब किये , कोई आज बताय ।।

कोई आज बताय , नोकर चाकर है कहाँ ।
झाड़ू कौन लगाय ,जो घर सफाई करते ।

पाले दुश्मन आप,कूलर देखिये पंगू।
पलते पानी साफ़ , मच्छर लारवा ड़ेंगू।।

नवीन,,,

         

Share: