झूठे वादे

एक खालीपन है भीतर मेरे मन में………
भरने की कोशिश में लगी रहती हूं ……..
कभी कविताओ से…….
कभी कहानियों से………
कभी गीतो से………;
कभी झूठ से……….
कभी सच से……….
कभी चुप्पी से……….
और कभी तुम्हारी यादो से….
तेरे झूठे वादो से………

         

Share: