भूख..

तन ख़रीदा मन ख़रीदा
भूख ने बचपन ख़रीदा
बेबसी की इन्तेहा से
माँ ने पागलपन ख़रीदा
भरत दीप

         

Share: