यादों के बादल से

यादों के बादल से ।
नीर बहे सागर से ।
कुछ गहरे गहरे से ।
कुछ राज उज़ागर से ।
…. विवेक दुबे”निश्चल”@….

         

Share: