बंद सांसें

पूछा जो किसी ने हाल उनका
मैने इस सवाल पर बंद आंखे कर ली

बैठा रह गया वो चांद भी तन्हा
मैंने इक सितारे से सब बातें कर ली

वो कहीं लौट न जाएं मेरे दर से
तब से मैंने जागती अपनी रातें कर ली

रहा न उन्हें लगाव ज़िन्दगी से मेरी
इसलिए मैंने बंद अपनी सांसे कर ली

         

Share: