बहुत पछताएँ

बहुत पछतायें तुझसे रूठके हम

रहेगें खुश तुझे अब छोडके हम

हमें आवाज ना दे ठीक है सब

करें भी क्या भला अब लौटके हम

ज़ुदा होने का हमको शौक़ ना था

अलग तुझसे हुए कुछ सोचके हम

नही अब शौक़ तेरे दिल में क्या है

बहुत ही थक गये है पूँछके हम

किसी भी काम का रिश्ता नही था

चले आये वो रिश्ता तोड़के हम

उसे क्या शौक़ हमको प्यार करता

हुए बदनाम उसको चाहके हम

         

Share: