“मैं तेरे नाम हो जाऊँ”…

°°°
लफ़्ज़ बने अगर तू तो मैं इक क़लाम हो जाऊँ ।
तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।।
.
ये अहसास है क्या ज़रा तुम महसूस तो करो ,
खाली कैनवास है , इसपे ज़रा तुम रंग तो भरो ।
बन जाओ अगर राधा तो तेरा श्याम हो जाऊँ ,
तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।।
.
न कर परवाह ज़माने की , बात सुन ले ज़रा पगली ,
ज़माना यूँ ही कहता है , ख़्वाब बुन ले ज़रा पगली ।
बन जा मेरी तू हँसी , मैं तेरी खुशी तमाम हो जाऊँ ,
तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।।
.
हमारा मोल क्या है जग में , ज़रा पहचान लो अभी ,
एक-दूसरे के वास्ते अनमोल हैं हम , ये जान लो अभी ।
बसा ले दिल में इस तरह कि तेरा ईनाम हो जाऊँ ,
तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।।
.
आखिरी साँस है जब तक , तेरा है ये “कृष्णा”,
अजब प्यास है , न कभी बुझ पाएगी ये तृष्णा ।
बना ले मीना तू मुझको और मैं तेरा ज़ाम हो जाऊँ ,
तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।।
.
लफ़्ज़ बने अगर तू तो मैं इक क़लाम हो जाऊँ ।
तू मेरे नाम हो जा और मैं तेरे नाम हो जाऊँ ।।

°°°
— °•K.S. PATEL•°
( 07/11/2018 )

         

Share: