“याद बस रह जायेगी”…

°°°
माता व पिता को अश्रु-धार देकर अभी यह जायेगी ।
हो गयी है परायी लाडली , याद बस रह जायेगी ।।
.
तुमसे दूर होने का सोचकर ही दिल घबराता है ,
ये कैसी रीत है , दिल का टुकड़ा दूर हो जाता है ?
मुझे पता , तेरी नैनों की सरिता भी बह जायेगी ,
हो गयी है परायी लाडली , याद बस रह जायेगी ।।
.
तेरी विदाई पर नयी मंज़िलें पलकें बिछाईं हैं ,
कुछ खुशियाँ हाज़िर हैं तो कुछ बेहद ही शरमाईं हैं ।
बहुत बोलने वाली भी आज कुछ नहीं कह जायेगी ,
हो गयी है परायी लाडली , याद बस रह जायेगी ।।
.
मेरे अभिन्न अंश को भले आज सौंप दिया किसी को ,
मगर आशीष है कभी वहाँ न तरसे कोई खुशी को ।
हमसे बिछुड़ने की तकलीफ धीरे से सह जायेगी ,
हो गयी है परायी लाडली , याद बस रह जायेगी ।।
.
छुटकी ! तेरी हर बदमाशियाँ अब मेरी धरोहर है ,
मेरे दिल के क़रीब ही तेरी हर अदा बरोबर है ।
याद रखना तेरे पीछे जीने की वज़ह जायेगी ,
हो गयी है परायी लाडली , याद बस रह जायेगी ।।
.
माता व पिता को अश्रु-धार देकर अभी यह जायेगी ।
हो गयी है परायी लाडली , याद बस रह जायेगी ।।
°°°

         

Share: