“मुझे आने तो दे”…

°°°
मेरी माँ , मुझे अपनी दिल की बात सुनाने तो दे ।
तेरा प्रतिरूप बनूँगी , मुझे आने तो दे ।।
.
ज़माना यहाँ क्या बोलता , इसपे मत दो ध्यान ,
अपने इस खून के लिए , बस दिल का कहा मान ।
मुझे तेरी खुशी का कारण बन जाने तो दे ,
तेरा प्रतिरूप बनूँगी , मुझे आने तो दे ।।
.
कभी आँचल-तले सिमट-सिमटकर छुप जाऊँगी ,
तो कभी अपनी अदा से दिल भी बहलाऊँगी ।
मेरी इच्छाओं को भी अब इठलाने तो दे ,
तेरा प्रतिरूप बनूँगी , मुझे आने तो दे ।।
.
नवीन रिश्तों को बनाने वाली रीत हूँ मैं ,
सृष्टि का सृजन करने वाली संगीत हूँ मैं ।
नाम रोशन करूँगी , ज़रा आज़माने तो दे ,
तेरा प्रतिरूप बनूँगी , मुझे आने तो दे ।।
.
अगर मैं न आई तो फिर कैसा होगा जीवन ?
कैसे किसी को मिलेगी पुत्री , पत्नी और बहन ??
मुझे घर की शोभा बनाकर मुस्काने तो दे ,
तेरा प्रतिरूप बनूँगी , मुझे आने तो दे ।।
.
मेरी माँ , अपनी दिल की बात सुनाने तो दे ।
तेरा प्रतिरूप बनूँगी , मुझे आने तो दे ।।
°°°
— °•K.S. PATEL•°
( 23/01/2019 )

         

Share: