कजरारे नैन

*कजरारे नैन*
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
तुम मौन हो सताती, गेसू बांध उलझाती ।
मधु मुस्कान से आती, अश्रु धार दे जाती ।।

सुर्ख रक्त लब दिखा , मोहक कपोल बता ।
आँखों पर प्यास जता , नैन प्यास दे जाती ।।

कमनीय तोही काया ,कजरारे नैन माया।
चंद्र भाल भरमाया , मौन प्यास दे जाती ।।

गज गामिनी की चाल , हमारा हाल बेहाल ।
गुजर रही ये साल , मधु कुछ दे जाती ।।
*नवीन कुमार तिवारी , अथर्व*

         

Share: