अपना अपना सब कहें

अपना अपना सब कहें ,अपना यहां न कोय।
सब माया का जाल है, काहे को तू रोय।।
©अंशु कुमारी

         

Share: