जन जागरण-14

सदियों से सहती रही,नारी अत्याचार ।
बदले सोच समाज की,महती है दरकार ।।
भरत दीप

         

Share: