जन जागरण-17

न्याय व्यवस्था हो गई,बेहद ख़स्ताहाल।
लंबित लाखों केस हैं,गुज़रे सालों साल।।
भरत दीप

         

Share: