जन जागरण-6

ताज़े फल खाएं सदा,करें बीज एकत्र।
सैर करें जब बाग में, फैला दें सर्वत्र।।
भरत दीप

         

Share: