जन जागरण-8

सपने देकर हाथ में, छीनें सब अरमान।
चिकनी चुपड़ी बात में,मत फँसिए श्रीमान।।
भरत दीप

         

Share: