जन जागरण

देखे बंजर खेत जब,सूली चढ़े किसान।
अन्तर्मन कैसे कहे, मेरा देश महान ।

भरत दीप

         

Share: