जैव विविधता दिवस पर विशेष

गौरैया दिखती नहीं ,ना तितली की ज़ात।
ना गिद्धों का शोर है,ना कपि का उत्पात।।
भरत दीप

         

Share: