नेह की डोर..

चिकने रेशम से बनी, ‘दीप’ नेह की डोर।
छूटे से फिर ना मिले,पकड़ राखिए छोर।।
भरत दीप

         

Share: