पहचान

कठिन समय जब भी कभी,दिखलाते भगवान।
तब    ही   सच्चे   मित्र   की ,  होती  है  पहचान।।
भरत दीप

         

Share: