बराबरी

विकलांग संमझ भीख पे ,
बता गये अधिकार ।
वोट बैंक बने रहिये ,
माल खाते डकार।।
नवीन कुमार तिवारी

         

Share: