बिछड़ना

मिलना बिछड़ना कहिये, लिखी लेख क्या जाग।
कब होय मिलन सोचिये,अलाप करते राग ।।

नवीन कुमार तिवारी

         

Share: