मन जागरण

माँ ने बेटी बेच दी, लेकर चंद हज़ार।
कहते कहते रो पड़ा, शरमिन्दा अखबार। भरत दीप

         

Share: