मन में कान्हा की लगन

मन में कान्हा की लगन, राधा है बेचैन।
सोचो तन्हा किस तरह,उसकी होगी रैन।।

सूचि “भवि”

         

Share: