मुस्कान

दुःख जीवन का अंश है,मत छोड़ो मुस्कान।
फिर पथरीली राह भी, हो जाए आसान।।
भरत दीप

         

Share: