मृत्यु भोज

गिरवी रखकर खेत को,करें मृत्यु का भोज।
कैसी निर्मम रीत है, कितनी लंगड़ी सोच।।
भरत दीप

         

Share: