मेरे साईं

साईंचरणों में सभी,अर्पित मेरे भाव।
अपने सुख-दुख के लिए,मैं क्यों करूँ तनाव।।

सुप्रिया’यति’

         

Share: