विश्वास

गली गली में मिल रहीं,संबन्धों की लाश।
भाई फिर कैसे करे, भाई पर विश्वास ।।
भरत दीप

         

Share: