सस्ता है ईमान

गली गली में खुल गईं,ऐसी अजब दुकान।
मिट्टी है महँगी जहाँ , है सस्ता ईमान ।।
भरत दीप

         

Share: