साईं कृपा

गिरि पर चढ़ता पंगु भी,मूक बने वाचाल।
जिसपर हो साईंकृपा, रहता सदा निहाल।।
सुप्रिया ‘यति’

         

Share: