साईं वर्णन

कैसा ये आनंद है, कैसा है आभास।
साईं वर्णन के लिए,शब्द नहीं है पास।।

         

Share: