कान्हा

भटक न जाऊँ कहीं तुम राह दिखाना कान्हा,

मन में बहुत अंधेरा है उजाला फैलाना कान्हा,

गलत न हो मुझसे, कभी भी कोई दिल न टूटे,

बस इतना सा सच्चा और अच्छा बनाना कान्हा।

सखी

         

Share: