तहजीब

मुल्क के वास्ते सर अपना कटा कर देखो

शम्मा की मिस्ल कभी खुद को जला कर देखो

देखनी है तुम्हें तहजीब अगर भारत की

उसको शहरो में नहीं गाँव में आकर देखो

         

Share: