छाले

अक़्स अश्क़ में धुल गए ।
छाँव पलकों में जल गए ।
मंजिल पा जाने से पहले ,
पाँव छालों से मचल गए ।
…. विवेक दुबे”निश्चल”@…

         

Share: