शबनम

बात एक यही चुभती रही ।
निग़ाह एक वो झुकती रही ।
तपिश न थी शबनम में कोई ,
पर रात भर वो घुलती रही ।
…. विवेक दुबे”निश्चल”@….

         

Share: