ये आँखें

ये आँखें आइना दिल का राज सब खोल देती हैं।
छुपा लो चाहे तुम जितना ये आँखें बोल देती हैं।
गुजर जाते हो जब भी पास से चुपचाप तुम मेरे,
ज़ुबां खामोश हो बेशक नजर सब बोल देती हैं।
—-राजश्री—-

         

Share: