मदारी

मदारी
———
हमारे गाँव में देखो मदारी आज आया है ।।

लिये है साथ मे भालू
नचाता आ रहा बन्दर
कभी वह गांव के बाहर
कभी वह गांव के अंदर ।

नचाकर बंदरों को खेल भी सुंदर दिखाया है ।
हमारे गाँव मे देखो मदारी आज आया है ।।

बन्दरिया ओढ़ कर चुनरी
बड़े नखरे दिखाती है ,
उठा कर आइना अपना
अनोखे ढँग दिखाती है ।

कराने को विदा दूल्हा बना बन्दर भी आया है ।
हमारे गाँव मे देखो मदारी आज आया है ।।

छमाछम नाचता भालू
ढमा ढम ढोल है बजता ,
दुल्हन घूँघट से झाँके है
लगा टोपी दुल्हा सजता ।

मिलें सिक्के मदारी ने फ़टी चादर बिछाया है ।
हमारे गाँव मे देखो मदारी आज आया है ।।
———————– —-डॉ. रंजना वर्मा

         

Share: